Breaking News
Home » Business and Gadgets » SBI के साथ इन सभी बैंकों ने की MCLR में कटौती, ग्राहकों को मिलेगा फायदा

SBI के साथ इन सभी बैंकों ने की MCLR में कटौती, ग्राहकों को मिलेगा फायदा

Spread News with other
भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने कम अवधि (तीन महीने तक) के ऋण पर फंड की सीमांत लागत आधारित ब्याज दर (MCLR) 5-10 आधार अंक घटाने की बुधवार को घोषणा की, जो 10 जुलाई से प्रभावी होगी। बैंक ने एक बयान में कहा कि यह कटौती मांग बढ़ाने और उधारी लेने को बढ़ावा देने के लिए की गई है। SBI के MCLR में यह लगातार 14वीं कटौती है। वहीं HDFC, केनरा और बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने भी कटौती की है।
कटौती के बाद SBI का MCLR तीन महीने की अवधि तक के लिए घटकर 6.65 प्रतिशत वार्षिक हो जाएगा, जो SBI के बाहरी बेंचमार्क आधारित ब्याज दर (EBLR) के बराबर है। SBI का MCLR बाजार में लगातार सबसे कम बना रहेगा। इस कटौती के बाद भी यह दर बाजार में सबसे कम है। बैंक आम तौर पर हर महीने MCLR की समीक्षा करते हैं।
ग्राहकों को होगा फायदा
इससे ग्राहकों को काफी फायदा होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि उनकी होम लोन की ईएमआई में कमी आएगी। हालांकि अगर आपका होम लोन SBI की MCLR दर से जुड़ा है, तो नई कटौती आपकी EMI को तुरंत नीचे नहीं ला सकती है, क्योंकि MCLR आधारित कर्ज में आमतौर पर एक साल का रीसेट क्लॉज होता है। बता दें कि MCLR दरें बैंक की अपनी लागत पर आधारित होती है।
HDFC बैंक ने भी दिया ग्राहकों को लाभ
SBI से पहले HDFC बैंक भी लोन की ब्याज दरें घटा चुका है। HDFC ने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ फंड बेस्ड लेंडिंग रेट (MCLR) में 0.20 फीसदी की कटौती की है। नई दरें आज 7 जुलाई से लागू हो गई हैं। अब HDFC बैंक के एक साल के लिए MCLR दर 7.65 फीसदी से घटकर 7.45 फीसदी हो गई है। इस कटौती के साथ ही बैंक से जुड़े होम लोन, ऑटो लोन और पर्सनल लोन की ईएमआई कम हो जाएगी।
इन बैंकों ने भी की घोषणा
इतना ही नहीं, सार्वजनिक क्षेत्र के केनरा बैंक और बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने भी ग्राहकों को राहत दी है। केनरा बैंक और बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने MCLR में क्रमश: 0.10 फीसदी और 0.20 फीसदी की कटौती की घोषणा की। यह कटौती सभी अवधि के कर्ज पर की गयी है जो सात जुलाई से प्रभाव में आ गई है।
केनरा बैंक ने इतनी की कटौती
बंगलूरू स्थित केनरा बैंक ने एक साल के MCLR को घटाकर 7.55 फीसदी कर दिया है जो पहले 7.65 फीसदी थी। केनरा बैंक ने एक विज्ञप्ति में कहा कि एक दिन और एक महीने के लिये ब्याज दर 0.10 फीसदी घटाकर 7.20 फीसदी कर दिया गया है। वहीं तीन महीने के लिये MCLR 7.55 फीसदी से कम कर 7.45 फीसदी कर दिया गया है।
बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने इतना दिया लाभ
पुणे के बैंक ऑफ महाराष्ट्र (बीओएम) ने एक साल के MCLR को कम कर 0.20 फीसदी कम कर 7.50 फीसदी कर दिया है। अब तक यह 7.70 फीसदी थी। एक दिन, एक महीने और तीन महीने के कर्ज के लिये MCLR अब क्रमश: 7 फीसदी (अब तक 7.20 फीसदी), 7.10 फीसदी (7.30 फीसदी) और 7.20 फीसदी (अब तक 7.40 फीसदी) होगी।
क्या है MCLR?
बैंकिंग क्षेत्र के नियामक रिजर्व बैंक ने एक अप्रैल 2016 से देश में मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग के आधार पर MCLR की शुरुआत की थी। उससे पहले सभी बैंक आधार दर के आधार पर ही ग्राहकों के लिए ब्याज दर तय करते थे।

About dhamaka