Breaking News
Home » Main News » LAC विवाद का की वजह : हिमाचल में लद्दाख और दारचा के बीच भारत बना रहा है नई सड़क

LAC विवाद का की वजह : हिमाचल में लद्दाख और दारचा के बीच भारत बना रहा है नई सड़क

Spread News with other

चीन के साथ सीमा रेखा विवाद के बीच भारत हिमाचल प्रदेश के दारचा को लद्दाख से जोड़ने वाली एक रणनीतिक सड़क पर काम में तेजी ला रहा है, जो मंगलवार को उच्च ऊंचाई वाले बर्फीले दर्रों को पार कर जाएगी. एक रिपोर्ट के अनुसार आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि लगभग 290 किलोमीटर लंबी सड़क सैनिकों की आवाजाही के लिए महत्वपूर्ण होगी और लद्दाख क्षेत्र के सीमावर्ती ठिकानों में भारी हथियारों से लैस होकर कारगिल क्षेत्र को एक महत्वपूर्ण लिंक प्रदान करेगी. यह मनाली-लेह सड़क और श्रीनगर-लेह राजमार्ग के बाद लद्दाख के लिए तीसरा रोड लिंक होगा.

हिमाचल प्रदेश से लद्दाख के लिए एक वैकल्पिक सड़क को फिर से खोलने पर काम तेज कर दिया गया है क्योंकि यह रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण सड़क है, इस प्रोजेक्ट के 2022 के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है. सूत्रों ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ दौलत बेग ओल्डी के साथ-साथ डेपसांग जैसे विभिन्न प्रमुख क्षेत्रों में सैनिकों की आवाजाही के लिए विभिन्न सड़क परियोजनाओं में तेजी लाई जा रही है.

सीमा सड़क संगठन लद्दाख को डेपसांग प्लेन्स से जोड़ने वाली एक अन्य महत्वपूर्ण सड़क पर भी काम कर रहा है. सड़क लद्दाख में उप-सेक्टर नॉर्थ (एसएसएन) तक पहुंच प्रदान करेगी. पैंगोंग त्सो में फिंगर क्षेत्र की सड़क भारत के लिए गश्त करने के लिए महत्वपूर्ण मानी जाती है.
भारत ने पहले ही पूर्वी लद्दाख में किसी भी सीमावर्ती बुनियादी ढांचा परियोजनाओं को नहीं रोकने का फैसला किया है. पिछले महीने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने एक उच्च-स्तरीय बैठक में लद्दाख क्षेत्र सहित सीमावर्ती क्षेत्रों में निर्माणाधीन विभिन्न बुनियादी ढांचा परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा की थी.

सूत्रों ने बताया कि बैठक में उन्होंने सीमा सड़क संगठन को दारचा को लद्दाख से जोड़ने वाली सड़क पर काम तेज करने का निर्देश दिया था. भारत और चीन ने पिछले ढाई महीनों में कई दौर की सैन्य और कूटनीतिक वार्ता की है, लेकिन पूर्वी लद्दाख में सीमा रेखा के समाधान के लिए कोई महत्वपूर्ण कदम नहीं उठाया गया है.

About dhamaka