Breaking News
Home » Astrology » सूर्य ग्रहण 2020 : क्या सूर्य ग्रहण चमकाएगा इन राशियों का भाग्य, जानें बारह राशियों पर ग्रहण का असर

सूर्य ग्रहण 2020 : क्या सूर्य ग्रहण चमकाएगा इन राशियों का भाग्य, जानें बारह राशियों पर ग्रहण का असर

Spread News with other

साल का पहला सूर्यग्रहण 21 जून, रविवार को लगने जा रहा है। इस दिन आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि मृगशिरा व आद्रा नक्षत्र में यह ग्रहण मिथुन राशि में लगेगा और इस दिन चूड़ामणियोग बन रहा है। इसी दिन अर्थात 21 जून रविवार को मिथुन राशि पर सूर्य ग्रहण भी लग रहा है। चूँकि 21 जून को लगने वाला यह सूर्य ग्रहण चूड़ामणियोग में लग रहा है इसलिए इस सूर्य ग्रहण को चूड़ामणि सूर्य ग्रहण भी कहते हैं। इसके अलावा इसे वलयाकार सूर्य ग्रहण भी कहा जाता हैं।

माना जाता है कि जब सूर्यग्रहण चूड़ामणियोग युक्त हो जाता है तो वह विशेष फलदायी और मंगलकारी होता है। इससे इस सूर्य ग्रहण का और भी महत्व हो गया है। ज्योतिष में ग्रहण का बड़ा महत्व होता है और माना जाता है कि ग्रहण का शुभ व अशुभ प्रभाव सभी बारह राशियों पर पड़ता है।

आइये जानते हैं सूर्य ग्रहण का 12 राशियों क्या पड़ेगा असर ….

मेष – यह सूर्य ग्रहण मेष राशि के जातकों के लिए अत्यंत शुभकारी है। मान –सम्मान, पद प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी, धन लाभ का योग है। इन जातकों को अपना व्यवहार मीठा रखना चाहिए। वाहन चलाते और यात्रा करते समय सावधान रहें। किसी नई डील पर हस्ताक्षर करते समय सावधान रहें। परिवार के बड़े सदस्यों एवं भाइयों से मतभेद न पैदा होने दें। हनुमान चालीसा और सुंदरकांड का पाठ करेंगे तो लाभ होगा।

वृषभ – ग्रहण के प्रभाव से वृषभ राशि वालों के लिए आर्थिक समस्या और पारिवारिक कलह बढ़ सकती है। इस राशि वालों को भोजन आदि का विशेष ध्यान रखना चाहिए। स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। वाणी पर नियंत्रण जरुरी है। इनके लिए गुरु और श्री महालक्ष्मी की पूजा तथा अन्नदान करना लाभप्रद रहेगा। इस ग्रहण के कुप्रभाव से बचने के लिए ललिता सहस्रनाम व देवी कवच का पाठ करना चाहिए।

मिथुन- आपकी राशि पर लगने वाला ग्रहण आपके लिए सर्वाधिक कष्ट कारक सिद्ध हो सकता है। आपको अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देने की जरूरत होगी, मन अशांत रहेगा। किसी व्यक्ति पर सहज विश्वास न करें। अधिक से अधिक ध्यान, जप, साधना, आसन करें। इससे लाभ होगा। यात्रा सावधानीपूर्वक करें वाहन दुर्घटना से बचें कार्य क्षेत्र में भी उच्चाधिकारियों से मधुर संबंध बनाए रखें। विष्णु सहस्त्रनाम, ॐ नमो नारायण के जप से लाभ होगा।

कर्क – इस राशि वालों को आर्थिंक नुकसान हो सकता है, दुर्घटना का सामना करना पड़ सकता है। ये अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग रहें। नए मित्र न बनाएं। किसी संबंधी अथवा मित्र के द्वारा कष्टकर समाचार मिल सकता है। यात्रा भी करनी पड़ सकती है चोट लगने से बचें। दान करने से ग्रहण का प्रभाव कम हो सकता है।

सिंह – इस सूर्य ग्रहण से सिंह राशि वालों को अप्रत्याशित लाभ हो सकता है क्योंकि सिंह राशि सूर्य की राशि है। विदेश से धन मिलने के योग है परन्तु धन कमाने की लालसा पर नियंत्रण रखें और संतुलन बनाये रखें। संतान की तरफ से सुखद समाचार मिल सकता है। वाहन से सावधान रहें। माँ के स्वास्थ्य के प्रति सजग रहें। बड़े भाइयों से मतभेद न पैदा होने दें। आय के साधन बढ़ेंगे।

कन्या – आपकी राशि से दशम भाव में पड़ने वाला यह ग्रहण माता पिता के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव डालेगा। इस राशि के जातकों को अपने कार्य स्थल पर अत्यंत सावधानी बरतनी होगी क्योंकि कर्म योग एक बहुत बड़ी भूमिका निभाने वाला है। नौकरी में भी स्थान परिवर्तन की संभावना है अगर ऐसा हो तो सहजता से स्वीकार करें। सामाजिक प्रतिष्ठा पर आंच न आने दें। कर्म को सुधारने के लिए हर दिन विष्णु सहस्रनाम का पाठ करें या सुनें। भगवद्गीता का दूसरा और चौथा अध्याय पढ़ें और समझें।

तुला – राशि से भाग्य भाव में पड़ने वाला ये ग्रहण आपके लिए कार्य बाधा उत्पन्न करा सकता है। स्वास्थ्य के प्रति चिंता तो रहेगी किंतु संतान संबंधी चिंता भी आपको तंग कर सकती है। माता-पिता, वरिष्ठ अधिकारियों के संपर्क में रहें। धर्म-कर्म वाले विषय पर अधिक बल दें। भावुकता में कोई निर्णय न लें। धर्म-कर्म के मामलों में अरुचि बढ़ेगी।

वृश्चिक – आपकी राशि से अष्टम भाव में पड़ने वाला यह ग्रहण स्वास्थ्य के लिए विपरीत प्रभाव कारक सिद्ध होगा। शारीरिक स्वास्थ्य का ध्यान रखें। मन में नकारात्मक विचार आ सकते हैं। कर्मक्षेत्र में दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। मौन धारण करना, ध्यान, समाधि में रहना लाभदायक होगा। बदलाव का समय है जो थोडा तकलीफ दे सकता है। आकस्मिक धन प्राप्ति के योग बनाएगा। काफी दिनों का दिया गया पैसा वापस मिल सकता है। कार्य क्षेत्र में भी विरोधी सक्रिय रहेंगे और नीचा दिखाने की कोशिश करेंगे।

धनु – राशि से सप्तम भाव में पड़ने वाले इस ग्रहण के प्रभाव स्वरूप आपके दांपत्य जीवन में कटुता आ सकती है इसलिए आपसी सौहार्द बनाए रखें झगड़े विवाद से बचें। धनु राशि वालों के लिए समय बहुत अच्छा नहीं है। कोई भी कदम सोच विचार कर तथा पारदर्शिता के साथ उठायें। दिन में दो बार ध्यान करना, माता लक्ष्मी या देवी की पूजा करना, सूर्य नमस्कार बहुत फायदेमंद होगा।

मकर – राशि से छठेभाव में पड़ने वाला सूर्य ग्रहण मिलाजुला फल देगा। ऋण, रोग और शत्रु आपको तंग कर सकते हैं। गुप्त शत्रुओं से भी बचें। कोर्ट कचहरी के मामले भी बाहर ही सुलझायें। स्वास्थ्य संबंधी चिंता से परेशानी बढ़ सकती है किंतु आपके द्वारा लिए गए निर्णय एवं किए गए कार्यों की सराहना भी होगी।

कुंभ – कुंभ राशि पंचम स्थान में है जो शुभ नहीं है। इन्हें अपने हर कार्य को बहुत सोच विचार कर करना होगा। मंत्र साधना के लिए यह समय उत्तम है। संतान संबंधी चिंता भी परेशान कर सकती है। विद्यार्थियों के लिए यह समय काफी सावधानी बरतने का है पढ़ाई में की गई लापरवाही नुकसानदेह सिद्ध हो सकती है इसलिए ध्यान दें।

मीन – राशि से चतुर्थभाव में पड़ने वाला यह ग्रहण आपको पारिवारिक कलह एवं मानसिक अशांति देगा किंतु, कहीं न कहीं आपका आर्थिक पक्ष मजबूत भी करेगा। यात्रा सावधानीपूर्वक करें सामान चोरी होने से बचाएं। विदेशी कंपनियों में सर्विस आदि के लिए वीजा का आवेदन करना चाह रहे हो तो अवसर अच्छा है लाभ उठाएं। मन उदास रह सकता है। जायदाद , वाहन आदि कोई चीज न खरीदें। संगीत सुनें, शिव की पूजा करें। लाभ होगा।

About dhamaka