Breaking News
Home » States » संविधान में पुरुष और महिला बराबर. हर क्षेत्र में आगे .गांव की महिलाएं भी कम सशक्त नहीं…..स्वाति सिंह मंत्री (अस्मिता सम्मान जोकि पीएचडी चेंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा दिया गया)

संविधान में पुरुष और महिला बराबर. हर क्षेत्र में आगे .गांव की महिलाएं भी कम सशक्त नहीं…..स्वाति सिंह मंत्री (अस्मिता सम्मान जोकि पीएचडी चेंबर ऑफ कॉमर्स द्वारा दिया गया)

लखनऊ 10 मार्च. स्थानीय होटल हिल्टन गार्डन में पीएचडी चेंबर ऑफ कॉमर्स की तरफ से आयोजित कार्यक्रम में विभिन्न विधाओं में पारंगत महिलाओं को अस्मिता सम्मान के साथ सम्मानित किया गया. कार्यक्रम में प्रमुख सचिव संस्कृति जितेंद्र कुमार विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे अस्पताल सम्मान में अलग-अलग क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाली 22 महिलाओं को सम्मानित किया गया पीएचडी चेंबर ऑफ कॉमर्स की तरफ से आयोजित गोमती नगर स्थित एक होटल में आयोजित कार्यक्रम में स्वाति सिंह ने कहा की यदि महिला ना होती तो पुरुष भी अस्तित्व में ना आते अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस हमें रोज मनाना चाहिए ना कि किसी एक दिन संविधान में सारे अधिकार पुरुष और महिला के बराबर हैं गांव की महिलाएं हमसे ज्यादा सशक्त है महिलाओं में वह ताकत है जो 9 महीने पालक को अपने गर्भ में पेट में रखकर के सारे कर सकती है और उसके बाद जन्म देती है उसकी कष्ट की शुरुआत उसी समय से हो जाती है जब वह गर्भ धारण करती है आज हमें अपनी सोच और परिवेश को बदलने की आवश्यकता है आज के समय में हम अच्छे अच्छे शब्दों का प्रयोग कर रहे हैं जैसे कि अब हम हाउसवाइफ का प्रयोग न करके हाउस मेकर का इस्तेमाल करना चाहेंगे समाज की सोच हमारी बनाई हुई है जो हमें बदलनी होगी हमें एक समान चलना है हमें लड़ना भी आता है और अगर लड़ने से भी नहीं मिला तो छीना भी आता है यह उद्गार स्वाति सिंह ने व्यक्त किए …..जितेंद्र कुमार ने कहा की मातृ शक्ति का रूप हमें मां बहन पत्नी दादी सभी के रूप में देखने को मिलता है. पुरुष और नारी को प्रकृतिक के दो अभिन्न अंग हैं अगर नारी ना होती तो पुरुष ना होते नारी के बगैर जीवन में प्यार की कल्पना भी नहीं की जा सकती. पीएचडी ऑफ चेंबर के अध्यक्ष डॉ ललित खेतान ने कहा कि महिलाएं पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर हर जगह काम कर रही हैं. जितनी महिलाएं मजबूत होंगी देश उतना ही विकास करेगा पीएचडी ऑफ चैंबर्स महिला विंग की चेयरमैन रीना सिंह ने कहा कि आज महिला कोमल है ना ही कमजोर वह हर स्थिति का सामना कर सकती है एयर फोर्स हो विज्ञान और कला हो लेखन चाहे जीवन का कोई भी क्षेत्र हो किसी में वह पीछे नहीं है ..स्वागत भाषण में गौरव प्रकाश ने महिलाओं की महत्व पर और उनकी भूमिका योगदान.. समाज निर्माण पर अपने ओजपूर्ण विचार व्यक्त किए कार्यक्रम का संचालन अत्यंत लय साथ आगे बढ़ता रहा .कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद देते हुए मुकेश बहादुर सिंह कार्यक्रम का समापन किया.

 

1-कांतिका मिश्रा. आर्ट कल्चर शास्त्रीय
2-आश्रिता दास. प्रिंसिपल ला मार्टिनियर गर्ल्स कॉलेज शिक्षा क्षेत्र में सराहनीय योगदान

Image may contain: 4 people, including Aashrita Dass, people smiling, text
3-डॉ शालिनी सिंह बिसेन.. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी ऑर्गेनिक फैक्टर कृषि.

Image may contain: 1 person, standing

प्रोफेसर हैं एमिटी विश्वविद्यालय नोएडा
4-अस्मा हुसैन.. फैशन डिजाइनर एवं समाजसेवी
5-अदिति कुमार ..यंग एग्रीकल्चर बिजनेस
6-राज स्मृति ..लेखक ब्लॉगर साहित्य
7-अपराजिता बंसल ..कानूनी सलाहकार
8-रुचि कुमार.. इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में सराहनीय योगदान
9-आभा सिंह ..समाज सेवा के लिए पूर्व नौकरशाह एवं एडवोकेट मुंबई हाई कोर्ट
10-तृषा नियोगी..स्वास्थ्य सेवा व्यवसाय
11-मंजुला गोस्वामी.. शिक्षा के लिए
12-अंजू नारायण..बिजनेस इंडस्ट्री
13-डॉक्टर प्रेरणा कपूर.. मेडिकल साइंसेज
14-डॉक्टर नीलम विनय ..स्वास्थ्य सेवा गायनेकोलॉजिस्ट अपोलो अस्पताल
15-डॉ गीता खन्ना.. निदेशक अजंता अस्पताल
16-शर्मिष्ठा शर्मा ..आई नेक्स्ट जागरण समूह
17-अंजली जयपुरिया..शिक्षा के लिए जयपुरिया समूह
18-शैलजा देवी.. नेचर ट्रीट निदेशक रेडिको खेतान.
19-सुजाता सिंह आईपीएस समाज सेवा
20- अंजू नारायण फैशन डिजाइनर व्यवसाय
21- इति श्री.. पत्रकारिता क्षेत्र में
22- ज्योत्सना कौर हबीबुल्ला. सामाजिक सेवा समाज कार्य के लिए

About dhamaka