Breaking News
Home » Crime » शीना बोरा हत्याकांड / इंद्राणी मुखर्जी की जमानत याचिका खारिज

शीना बोरा हत्याकांड / इंद्राणी मुखर्जी की जमानत याचिका खारिज

शीना बोरा मर्डर केस में मुंबई की स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने इंद्राणी मुखर्जी की जमानत याचिका खारिज कर दी है। इंद्राणी की ओर से बिगड़ती सेहत का हवाला देकर जमानत के लिए 6 महीने पहले यह याचिका दायर की गई थी। इससे पहले भी अदालत कई मौकों पर उनकी याचिका खारिज कर चुका है। अदालत ने सुनवाई के दौरान कहा कि पिछली जमानत याचिका खारिज होने के बाद से परिस्थितियों में कोई बदलाव नहीं हुआ है।

विशेष सीबीआई न्यायाधीश जे सी जगदाले की अदालत में इस याचिका को लेकर शुक्रवार को सुनवाई हुई। जमानत के लिए इंद्राणी मुखर्जी की ओर से

विशेष सीबीआई न्यायाधीश जे सी जगदाले की अदालत में इस याचिका को लेकर शुक्रवार को सुनवाई हुई। जमानत के लिए इंद्राणी मुखर्जी की ओर से यह चौथी कोशिश थी। सुनवाई के दौरान इंद्राणी के वकील तनवीर अहमद ने कहा था, ‘उनकी चिकित्सा दशा गंभीर है और लगातार बिगड़ती जा रही है. स्थिति सुधर नहीं रही है, बल्कि बिगड़ती जा रही है।’

यह चौथी कोशिश थी। सुनवाई के दौरान इंद्राणी के वकील तनवीर अहमद ने कहा था, ‘उनकी चिकित्सा दशा गंभीर है और लगातार बिगड़ती जा रही है. स्थिति सुधर नहीं रही है, बल्कि बिगड़ती जा रही है।’

अहमद ने कहा, ‘चिकित्सा विशेषज्ञों ने राय दी है कि इन महिला की बीमारी अपरिवर्तनीय दशा में है, ऐसे में उनके स्वास्थ्य में और गिरावट निश्चित है।’ उनकी जमानत अर्जी का विरोध करते हुए सीबीआई ने कहा कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि उसकी तबीयत बिगड़ती जा रही है। सीबीआई के वकील मनोज चलादन ने कहा कि विशेष सीबीआई अदालत से पिछली बार (18 नवंबर को) जमानत अर्जी खारिज होने के बाद परिस्थितयों में कोई बदलाव नहीं आया।

मर्डर केस कैसे सामने आया
शीना मर्डर का राज तब सामने आया, जब इंद्राणी के ड्राइवर श्यामवर राय को मुंबई पुलिस ने अवैध हथियार के केस में अरेस्ट किया, लेकिन पूछताछ में उसने शीना बोरा मामले का भी खुलासा कर दिया। 25 अगस्त 2015 में इंद्राणी को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस जांच में श्यामवर ने बताया कि 24 अप्रैल, 2012 को इंद्राणी ने बेटी शीना को फोन करके नेशनल कॉलेज बुलाया। शीना उस समय पीटर मुखर्जी (इंद्राणी के मौजूदा पति) के बेटे राहुल मुखर्जी के साथ लिव-इन रिलेशन में थी। श्यामवर सरकारी गवाह बन चुका है। अगस्त 2016 में इंद्राणी और पीटर मुखर्जी की कॉल रिकॉर्डिंग सामने आई थी। यह रिकॉर्डिंग पीटर के बेटे राहुल ने की थी। एक न्यूज चैनल ने इसके ऑडियो टेप जारी कर दावा किया कि इनमें पीटर और इंद्राणी शीना की हत्या की बात छिपाने के लिए राहुल को गुमराह कर रहे हैं। चैनल ने अपने पास ऐसे 20 ऑडियो टेप होने का दावा किया था। सीबीआई ने इनमें से सात टेप सबूत के तौर पर इस्तेमाल किए हैं।

About dhamaka