Breaking News
Home » Main News » लॉकडाउन के बाद पहली बार चली ट्रेन, कोटा और हैदराबाद में फंसे लोग आ रहे झारखंड

लॉकडाउन के बाद पहली बार चली ट्रेन, कोटा और हैदराबाद में फंसे लोग आ रहे झारखंड

Lockdown के बाद देश में पहली बार ट्रेन चली है. तेलंगाना सरकार के अनुरोध पर केंद्रीय रेल मंत्रालय के निर्देशानुसार लिंगमपल्ली (हैदराबाद) से हटिया (झारखंड) तक आज एक विशेष ट्रेन चलाई गई है. यह ट्रेन तेलंगाना में फंसे झारखंड और दूसरे जगह के मजदूरों को वापस ला रही है. यह ट्रेन शनिवार की सुबह झारखंड की राजधानी रांची पहुंचेगी. झारखंड सरकार ने मजदूरों के वापस आने के बाद उनकी स्क्रीनिंग की तैयारी कर रखी है. मजदूरों को वापस आने के बाद क्वारेंटाइन सेंटर या फिर होम क्वारेंटाइन में रखा जायेगा. साथ ही राजस्थान के कोटा में फंसे छात्रों को लेकर दो स्पेशल ट्रेन शुक्रवार 1 मई 2020 को रवाना होगी. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इसकी जानकारी दी है.
यह ट्रेन शुक्रवार सुबह 5 बजे तेलंगाना के लिंगमपेल्ली से ये ट्रेन चली, जो शनिवार की सुबह झारखंड के हटिया पहुंचेगी. इस ट्रेन में कुल 24 कोच हैं, ऐसे में उम्मीद लगाई जा रही है कि बड़ी संख्या में मजदूर वापस पहुंचेंगे. इस ट्रेन में कुल 1200 मजदूरों को वापस लाया जा रहा है. हर कोच में सिर्फ 56 मजदूरों को बैठने की इजाजत दी गयी है. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया है. रेल मंत्रालय का कहना है कि राज्य सरकारों की अपील पर इसे चलाया गया है. जिसमें सभी तरह के नियमों का पालन किया गया है. ये सिर्फ इकलौती ट्रेन थी, जिसे चलाया गया है. आगे अगर कोई ट्रेन चलती है तो राज्य सरकार और रेल मंत्रालय के निर्देश के बाद ही चलेगी.

बता दें कि झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मजदूरों की वापसी के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने की मांग को लेकर रेलमंत्री पीयूष गोयल से बात की थी. सीएम ने रेलमंत्री से कहा है कि राज्यों को विशेष ट्रेनों की जरूरत होगी ताकि दूसरे राज्यों में फंसे छात्रों, प्रवासी मजदूरों को वापस लाया जा सके. राज्य सरकार के अनुसार झारखंड के तकरीबन 9 लाख लोग दूसरे राज्यों में फंसे हैं, जिसमें से 6.43 लाख प्रवासी मजदूर हैं और बाकी लोग नौकरी व अन्य काम की वजह से दूसरे राज्यों में फंसे हैं.

About dhamaka