Breaking News
Home » States » लखनऊ- व्यापारी सम्मलेन होली मिलन समारोह :देश के निर्माण में व्यापारी सर्वोपरि :राजनाथ सिंह

लखनऊ- व्यापारी सम्मलेन होली मिलन समारोह :देश के निर्माण में व्यापारी सर्वोपरि :राजनाथ सिंह

LUCKNOW-2019
आज लखनऊ में व्यापारियों ने होली मिलन सम्मलेन का आयोजन किया जिसमे गृहमंत्री राजनाथ सिंह व कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक ने उपस्थित रह कर उनके समस्याएं सुनी एवं सभी व्यापारी नेता व शहर के सभी व्यापारी गन जिसमे अमरनाथ मिश्रा व व्यापारी नेता पवन मनोचा उपस्थित थे|
व्यापारियों की जो समस्याओं पर गौर किया गया वो इस प्रकार से है :
व्यापारी समाज कर प्रणाली का व्यापारी एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जोकि उपभोक्ता से कर संग्रह कर सरकारी कोष में जमा करता है व्यापारी को विभिन्न कर प्रणालियों में कुछ दिक्कतें आ रही है जो इस प्रकार से है

सर्व समाज का नेतृत्व व्यापारी द्वारा :बृजेश पाठक
व्यापारी दुर्घटना बिमा राजनाथ सिंह जी की देन,पेंशन भी होनी चाहिए :अमरनाथ मिश्रा

जीएसटी से संबंधित समस्याएं
1-ई- वेबिल जब विक्रेता व्यापारी द्वारा जनरेट किया जाता है तब के केवल एक मैसेज आता है कि ई- वेबिल जनरेट उस मैसेज में यहां नहीं पता चलता है कि किस फॉर्म द्वारा ई वे बिल जनरेट किया गया है ऐसे में फर्जी ई वे बिल जनरेट होने की आशंका बनी रहती है ऐसे में जब ई-वे बिल जनरेट हो तो जनरेट करने वाली फर्म का नाम एवं जीएसटी नंबर अवश्य अंकित होना चाहिए
2- हर जनपद में बड़ी-बड़ी कंपनियों के डिस्ट्रीब्यूटर अपने सेल्स वाहनों से प्रतिदिन विभिन्न उत्पादनो को लेकर नगर निगम एवं गांव की दुकान दुकान बेचने जाते हैं जिस दुकान पर जो माल बिकता है वहीं उसका बिल काटा जाता है सेल्स वाहन में सभी उत्पादन को मिलाकर 50,000 से अधिक कमाल होता है और शहर के भीतर गोदाम से दुकान दुकान से गोदाम माल जाता है ऐसे में ई वे बिल निकल पाना संभव नहीं हो पाता है गुजरात राजस्थान मध्यप्रदेश ई भारती उत्तर प्रदेश में भी जनपद की सीमा में ई वे बिल समाप्त किया जाए एवं इंटरेस्ट रेट उत्तर प्रदेश राज्य के अंदर इवेंट की सीमा 50000 से बढ़ाकर 100000 किया जाए.
3- ई वे बिल का पार्ट भी भरने की जिम्मेदारी ट्रांसपोर्टर पर होनी चाहिए यदि ट्रांसपोर्टर पार्ट बी नहीं भरा है तो पेनल्टी ट्रांसपोर्ट पर लगनी चाहिए ना कि व्यापारी पर.
4- धारा 138 (७) जो कि निलंबित है तत्काल प्रभाव से लागू किया जाए जिसे ट्रांसफर की जिम्मेदारी तय हो सके तथा अपवंचन पर रोक लगेगी और व्यापारी पर भी पेनल्टी नहीं लगेगी.
5 -ब्रांड हो या अनब्रैंड सभी प्रकार की अनाजों को कर मुक्त किया जाए.

नगर निगम विभाग से संबंधित समस्याएं
1- फेरी नीति तत्काल लागू करा कर लखनऊ की प्रमुख बाजार अमीनाबाद ,नखास, चौक ,आलमबाग ,भूतनाथ, सदर आदि को अतिक्रमण से मुक्त कराया जाना चाहिए ताकि कारोबार पुनर्जीवित हो सके.
2- बाजारों में डस्टबिन 100 मीटर की दूरी पर रखे जाएं शुद्ध पेयजल आईपी कैमरा से लैस बाजार हो वैलेट पार्किंग की व्यवस्था की जाए आवारा पशुओं रहित क्षेत्र बनाया जाए
3-समुचित सुलभ शौचालय मूत्रालय की व्यवस्था की जाए जहां पर स्थाई मूत्रालय ना बन सके वहां पर शौचालय शौचालय बनाए जाएं.
4- बाजारों में नियमित कूड़ा उठाने की व्यवस्था किया जाए कूड़ा उठाने का समय सुबह दुकान खोलने के पहले और रात्रि में दुकानें बंद होने के पहले कूड़ा उठाने की व्यवस्था किया जाए.
5- मॉल हर दिन खुले रहे ऐसे ही बाजारों की भी साप्ताहिक बंदी समाप्त होनी चाहिए.

About dhamaka