Breaking News
Home » Main News » लखनऊ में दौड़ी मेट्रो ट्रेन, अल्ट्रावॉयलेट तकनीक से सैनिटाइज टोकन लोगों को मिले

लखनऊ में दौड़ी मेट्रो ट्रेन, अल्ट्रावॉयलेट तकनीक से सैनिटाइज टोकन लोगों को मिले

Spread News with other

उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड (यूपीएमआरसीएल) ने आज से राजधानी लखनऊ में मेट्रो ट्रेन का संचालन शुरू कर दिया है। मेट्रो ट्रेन से यात्रा करने के लिए नया गो स्मार्ट कार्ड खरीदने पर यात्रियों को 20 रुपये का मास्क मुफ्त दिया जा रहा है। फिलहाल अभी अप-डाउन मिला कर 16 मेट्रो ट्रेनों का संचालन यात्रियों के लिए किया जा रहा है। 
पहले दिन यात्रियों की संख्या में कमी देखी गई। लेकिन, जो लोग पहुंचे उन्होंने मेट्रो के संचालन शुरू होने पर खुशी जतायी।  यात्री शैलेंद्र पाठक ने बताया कि मैं पिछले दो साल से मुंशी पुलिया से अमौसी मेट्रो स्टेशन तक की यात्रा कर रहा हूं। लखनऊ में मेट्रो ट्रेन बंद हो जाने से मुझे आने जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। अब मेट्रो के दोबारा चलने से मुझे बहुत खुशी हुई है। निधि दीक्षित ने कहा कि सुरक्षित सफर के लिहाज से लखनऊ मेट्रो सबसे अच्छी है। रागिनी शर्मा ने कहा कि मेट्रो ट्रेन का सफर कोविड-19 को देखते हुए सबसे सुरक्षित है। लखनऊ मेट्रो के फिर से चलने से आज मुझे बहुत प्रसन्नता हुई है।
यूपीएमआरसीएल के डीजीएम प्रथम हितेश चंदानी ने बताया कि लखनऊ में पिछले करीब 169 दिनों से बन्द मेट्रो रेल सेवा आज शुरू हो गई है। यात्रियों के लिए ट्रांसपोर्ट नगर स्थित मेट्रो डिपो से करीब सुबह 06 बजे दो मेट्रो ट्रेन अप और डाउन में चलाई गई। इसके बाद 20 मिनट के अंदर ही 14 अन्य ट्रेनों का संचालन शुरू हो गया। फिलहाल अभी 16  मेट्रो ट्रेनों का संचालन यात्रियों  के लिए किया जा रहा है। 04 ट्रेनें रिजर्व में रखी गई हैं। यात्रियों को मेट्रो ट्रेनों की सेवा करीब पांच मिनट के अंतराल पर मिल रही हैं।
उन्होंने बताया कि उत्तर-दक्षिण कॉरिडोर के सभी 21 स्टेशनों पर मेट्रो ट्रेनें रुक रही हैं। यात्रियों को किसी प्रकार की दिक्कतें न होने पाए इसलिए मेट्रो के अधिकारी लगातार मॉनिटरिंग कर रहे हैं। यूपीएमआरसीएल ने लखनऊ में गो स्मार्ट कार्ड को प्रोत्साहित करने के लिए एक योजना शुरू की है। इसके अंतर्गत नया गो स्मार्ट कार्ड खरीदने वाले को 20 रुपये का मास्क मुफ्त में दिया जा रहा है। गो स्मार्ट कार्ड पर लगने वाला 50 रुपये का एक्टिवेशन चार्ज भी अब खत्म कर दिया गया है।
डीजीएम प्रथम ने बताया कि लखनऊ मेट्रो देश की पहली मेट्रो है जहां पर अल्ट्रावॉयलेट तकनीक से टोकन को सैनिटाइज किया जा रहा है। सभी मेट्रो स्टेशनों पर हैंड वॉश, सैनिटाइजर और नैपकिन की व्यवस्था की गई है। यात्री एक सीट छोड़कर ट्रेन में बैठ रहे हैं। जहां पर स्टीकर चिपकाया गया है वहां पर बैठने की अनुमति नहीं है। सभी 21 मेट्रो स्टेशनों पर सामान्य तौर पर दो प्रवेश और निकास द्वार खोले गए हैं। जबकि सिंगार नगर में एक प्रवेश और निकास द्वार खोला गया है। सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है। सामान्य से अधिक तापमान होने पर मेट्रो में प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। 
लखनऊ मेट्रो में कोविड-19 की गाइड लाइन का पालन करने के लिए पूरी क्षमता से 40 प्रतिशत कम यात्रियों को सफर कराया जा रहा है। हर 04 से 05 घंटे में मेट्रो का कोना-कोना सैनिटाइज किया जाएगा। लिफ्ट, लिफ्ट बटन, काउंटर, स्वचालित सीढ़ियां, टिकट वेडिंग मशीनें और प्लेटफॉर्म 04 से 05 घंटे पर सैनिटाइज किए जाएंगे। इसके लिए जरूरी कर्मचारियों और अधिकारियों को पहले से मुस्तैद कर दिया गया है।

About dhamaka