Breaking News
Home » National » रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने LAC पर तनाव के बीच के घर पर किया बैठक , विदेश मंत्री, आर्मी चीफ और सीडीएस रहे मौजूद

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने LAC पर तनाव के बीच के घर पर किया बैठक , विदेश मंत्री, आर्मी चीफ और सीडीएस रहे मौजूद

Spread News with other

भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के घर पर चल रही अहम बैठक खत्म हो गई है. इसमें चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) बिपिन रावत, विदेश मंत्री एस जयशंकर और थल सेना प्रमुख एमएम नरवणे शामिल हुए थे. सोमवार रात लद्दाख की गलवान घाटी में चीन और भारत के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद से ही रक्षा मंत्री लगातार बैठकें कर रहे हैं.

बता दें कि आज दिन में भी रक्षा मंत्री ने तीनों सेना के प्रमुखों के साथ बैठक की थी और भारत-चीन सीमा विवाद पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जानकारी दी थी. इसमें भी सीडीएस शामिल हुए थे.

चीन के विदेश मंत्रालय ने पहले कहा कि उसने भारत के सामने अपना विरोध दर्ज कराया है और भारत को अपने सैनिकों को एलएसी पर आगे बढ़ने से रोकना होगा. हालांकि बाद में चीन के विदेश मंत्रालय की तरफ से ये बयान भी आया कि दोनों देश मिलकर सीमा विवाद सुलझाने के लिए बात कर रहे हैं और इस तनाव को खत्म करना चाहते हैं.
बता दे कि 1975 के बाद से चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी के साथ झड़प में भारतीय सेना के जवानों के शहीद होने का यह पहला मामला है, जब एक भारतीय गश्ती दल पर अरुणाचल प्रदेश में चीनी सैनिकों द्वारा घात लगाकर हमला किया गया था.
सिंह ने सेना प्रमुखों से पूर्वी लद्दाख क्षेत्र की गलवान घाटी में मौजूदा स्थिति स्पष्ट करने के लिए कहा है और यह भी पूछा कि इसके बाद कूटनीतिक स्तर पर क्या कदम उठाए जा सकते हैं.भारतीय सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवने को मंगलवार सुबह कश्मीर का दौरा करना था, लेकिन वास्तविक नियंत्रण रेखा पर सोमवार रात के घटनाक्रम के बाद इसे रद्द कर दिया गया.
पूर्वी लद्दाख क्षेत्र की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प के दौरान सोमवार रात एक अधिकारी सहित भारतीय सेना के तीन जवान शहीद हो गए. झड़प में एक भारतीय सेना के कर्नल और दो जवान शहीद हुए हैं.भारतीय सेना ने कहा कि हिंसक झड़प के दौरान कोई गोली नहीं चलाई गई.

भारतीय सेना ने एक ताजा बयान में यह भी कहा कि गलवान घाटी में सेनाओं के हटने की प्रक्रिया के दौरान, सोमवार रात हुई हिंसक झड़प में दोनों पक्षों के जवान शहीद हुए. हालांकि, कितने चीनी सैनिक मारे गए हैं, इसका अभी पता नहीं चल पाया है. तनावपूर्ण हालात को संभालने के लिए दोनों पक्षों के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी वर्तमान में बैठक कर रहे हैं.

About dhamaka