Breaking News
Home » CAREER » यूपीएससी सिविल सर्विस प्री परीक्षा 31 मई को अब नहीं , 20 मई के बाद होगी नई तारीख की घोषणा

यूपीएससी सिविल सर्विस प्री परीक्षा 31 मई को अब नहीं , 20 मई के बाद होगी नई तारीख की घोषणा

यूपीएससी की इस महीने यानि 31 मई को परीक्षा होने वाली थी लेकिन अब इसे अगली सूचना तक स्थगित कर दिया गया है। इस परीक्षा के लिए नई तारीख की घोषणा 20 मई के बाद होगी। संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने पहले ही साफ कर दिया था कि वह 3 मई के बाद लॉकडाउन पर फैसले के बाद इस बारे में कोई घोषणा करेगा। यूपीएससी के एक अधिकारी ने बताया है कि कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के प्रतिबंधों को देखते हुए यह फैसला लिया गया है और अब 20 मई के बाद नई तारीख की घोषणा की जाएगी।

अरविंद सक्सेना की अध्यक्षता में हुई बैठक में सोमवार को सभी वरिष्ठ सदस्यों से चर्चा की गई। आयोग का यह फैसला तब आया है जब केंद्र ने लॉकडाउन को दो सप्ताह के लिए आगे बढ़ाया है। अधिकारी ने यह भी बताया कि परीक्षा केंद्रों के उपलब्धता नहीं है, क्योंकि अधिकतर स्कूलों को लॉकडाउन के दौरान क्वारेंटाइन सेंटर बना दिया गया है। इसके अलावा स्टूडेंट्स को केंद्रों तक पहुंचने के लिए टिकट बुक करने के लिए पर्याप्त समय मिल सके, इसके बारे में आश्वस्त होना होगा, जो कि 31 मई तक होना बहुत मुश्किल है।

पूर्व यूपीएससी चेयरमैन विजय सिंह ने बताया कि इस फैसले से भर्ती प्रक्रिया में दरी हो सकती है, लेकिन उससे ज्यादा कोई परेशानी नहीं होगी। उन्होंने बताया कि प्री परीक्षा एक बड़ी एक्सरसाइज होती है, जिसमें परीक्षा केंद्रों की संख्या काफी ज्यादा होती है। आपको बता दें कि नई तारीखों को लेकर स्थिति साफ न होने के कारण उम्मीदवारों में बैचेनी सी होने लगी थी। उम्मीदवार यह भी सोच रहे थे कि इस देरी की वजह से मुख्य परीक्षा में समय को घटाया जाएगा।

आपको बता दें कि हरियाणा सिविल सर्विस परीक्षा जो 5 जून को होने वाली थी, उसे भी स्थगित कर दिया गया है। यूपीएससी के एक अधिकारी ने कहा था कि हालांकि परीक्षा के आयोजन की तैयारी छह माह पहले ही शुरू हो गई थी। डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर्स और डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट ने परीक्षा केंद्रों की पहचान कर ली है। इनमें से ज्यादातर स्कूल हैं और कुछ कॉलेज हैं। लिस्ट में से करीब 2500 केंद्रों का चयन किया गया है। लेकिन लिस्ट में शामिल काफी स्कूलों को अब क्वारंटाइन केंद्रो में तब्दील कर दिया गया है। इसके अलावा आयोग को अभ्यर्थियों के एक राज्य से दूसरे राज्य में जाने को लेकर भी सोचना होगा।

About dhamaka