Breaking News
Home » Main News » बिहार में नीतीश के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ेंगे एनडीए के घटक दल

बिहार में नीतीश के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ेंगे एनडीए के घटक दल

Spread News with other

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा प्रदेश भाजपा कार्यालय पटना में शनिवार को चुनावी बिगुल फूंकते हुए ‘आत्मनिर्भर बिहार’ अभियान का शुभारंभ किया. इस मौके पर उन्होंने कोरोना से लेकर विपक्ष पर जमकर निशाना साधा. साथ ही राष्ट्रीय अध्यक्ष ने बिहार विधानसभा चुनाव के लिए नया नारा दिया.

JP Nadda Nitish Kumar meeting on BJP JDU seat distribution Bihar election ।  BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीच मुलाकात,  सीट बंटवारे पर चर्चा - India

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने दावा किया है कि एनडीए के सभी घटक दल साथ मिलकर बिहार के चुनावी रण में उतरेंगे. शनिवार को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात के बाद आत्मनिर्भर बिहार कार्यक्रम में बोलते हुए नड्डा ने स्पष्ट कर दिया कि बीजेपी और एलजेपी, नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही विधानसभा चुनाव लड़ेंगे. मालूम हो कि चिराग पासवान ने नीतीश कुमार के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है. चिराग के तेवर अलग ही संकेत दे रहे हैं.

bihar chunav me jdu bjp ke bich seat sharing deal final : नड्डा नीतीश के  बीच आधे घंटे की मुलाकात आखिर सीट बंटवारे क्या बनी बात

जेपी नड्डा ने कहा ‘आत्मनिर्भर बिहार’ शुरुआत करते हुए कहा कि ‘आत्मनिर्भर बिहार की यात्रा’ बिहार को मुख्यधारा में लाकर खड़ा करेगी. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि कोरोना से लड़ तो अमेरिका भी रहा था, यूरोप भी रहा था, लेकिन वहां नेतृत्व में स्पष्टता नहीं थी, विजन नहीं था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बेहद साफ फैसला किया, जान है तो जहान है. फिर, कहा कि जान भी है और जहान भी है.

उन्होंने कहा कि बचपन में हमने देखा कि राजनीतिक नेतृत्व चरमराया हुआ था. उनके पास राजनीतिक इच्छाशक्ति नहीं थी. इसकी वजह से पूरी व्यवस्था चरमरायी हुई थी. आज परिवर्तन ये है कि मोदी जी से लेकर नीतीश कुमार और सुशील मोदी तक राजनीतिक इच्छाशक्ति से काम कर रहे हैं.

विपक्ष को निशाने पर लेते हुए उन्होंने कहा कि साल 2014 के पहले नेताओं का क्या वक्तव्य होता था? हम देखेंगे, हम करेंगे, हम कर नहीं पा रहे हैं. साल 2014 के बाद, मोदीजी के बाद राजनीति की संस्कृति यह बदली है कि हम कर सकते हैं, हम करेंगे.

About dhamaka