Breaking News
Home » National » पुलवामा आतंकी हमला: NIA ने दाखिल की 13,500 पन्नों की चार्जशीट

पुलवामा आतंकी हमला: NIA ने दाखिल की 13,500 पन्नों की चार्जशीट

Spread News with other

राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी NIA ने फरवरी 2019 को कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के सिलसिले में आज 13,800 पन्नों की चार्जशीट एनआईए की विशेष अदालत में दाखिल की. इस चार्जशीट में जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मौलाना मसूद अजहर और उनके भाई समेत 19 लोगों को दोषी माना गया है. जम्मू में एनआईए की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि श्रीनगर के लथीपोरा में 14 फरवरी 2019 को आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद की तरफ से सीआरपीएफ की कॉन्वॉय पर हुए आत्मघाती हमले, जिसमें 40 सीआरपीएफ के जवान शहीद हुए थे, के मामले में चार्जशीट दाखिल की है.
इस चार्जशीट में पाकिस्तान में रह रहे जैश-ए-मोहम्मद के मुखिया मौलाना मसूद अजहर उनके भाई राउफ असगर समेत पाकिस्तान में रह रहे हैं अमर अल्वी समेत 19 अन्य लोगों को आरोपी बनाया गया है, जिनमें पुलवामा के शाकिर बशीर, इंशा जान, पीर तारिक, वेज़-उल-इस्लाम, मोहम्मद अब्बास राथर, बिलाल अहमद, मोहम्मद इकबाल राथर, मोहम्मद इस्माइल, समीर अहमद डार, आशिक अहमद, आदिल अहमद डार, मोहम्मद उमर फारूक, मोहम्मद कामरान अली, सज्जाद अहमद भट्ट, मुदासिर अहमद खान और कारी यासिर शामिल हैं.

अपनी चार्जशीट में एनआईए ने कहा है कि इस घटना की जांच के दौरान यह पता लगा है कि पुलवामा में हुआ आतंकी हमला पाकिस्तान की एक सोची समझी साजिश का नतीजा था. इस साजिश के तहत जैश ए मोहम्मद में अपने आतंकियों को ट्रेनिंग देने के लिए अलकायदा, तालिबान और हक्कानी के अफगानिस्तान में बने ट्रेनिंग कैंप में हथियार और गोला बारूद चलाने का प्रशिक्षण दिया.
एनआईए को जांच के दौरान यह भी पता चला है कि इस हमले के मुख्य आरोपी मोहम्मद उमर फारूक ने भी अफगानिस्तान में हथियार और गोला बारूद चलाने का प्रशिक्षण लिया जिसके बाद वो अप्रैल 2018 में घुसपैठ कर भारत आया और फिर यहां सर्क्रिय जैशे मोहम्मद के आतंकियों के साथ मिल कर सीमा पार बैठे आकाओ के निर्देशों पर इस हमले की साजिश रची.
एनआईए ने अपनी चार्जशीट में कहा है के इस मामले में आरोपी शाकिर बशीर, इंशा जान, तारिक़ अहमद शाह और बिलाल अहमद ने जैश-ए-मोहम्मद के इन आतंकियों को मदद दी और उन्हें अपने घरों में छुपाया. दिसंबर 2018 के बाद से शाकिर बशीर ने अपने आकाओं के कहने पर हाईवे पर सुरक्षाबलों की गतिविधियों पर नजर रखनी शुरू की तो वहीं मुद्दसर अहमद खान ने गैलेटिन स्टिक का इंतजाम किया. शाकिर बशीर पर आरोप है कि उसने आरडीएक्स, जिलेटिन स्टिक्स, एलमुनियम पाउडर और कैल्शियम अमोनियम नाइट्रेट को इकट्ठा कर अपने घर में छुपा कर रखा.

About dhamaka