Breaking News
Home » Main News » नागरिकता संशोधन बिल: असम में हालात लगातार खराब, कर्फ्यू से एयरपोर्ट पर फंसे लोग

नागरिकता संशोधन बिल: असम में हालात लगातार खराब, कर्फ्यू से एयरपोर्ट पर फंसे लोग

नागरिकता विधेयक को लेकर असम में हालात लगातार चिंताजनक बने हुए हैं और अनिश्चितकालीन कर्फ्यू तथा इंटरनेट सेवाएं बंद होने से सैकड़ों यात्री गुवाहाटी हवाई अड्डे पर फंसे हुए हैं।

शहर से 30 किलोमीटर दूर बोरझार स्थित लोकप्रिय गोपीनाथ बारदोलोई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के भीतर और बाहर छात्रों से लेकर कामकाजी पेशेवर, बुजुगरें से लेकर महिलाओं तक की भीड़ देखी जा सकती है।

सुरक्षाबल हवाई अड्डे पर कड़ी नजर रखे हुए हैं। असम पुलिस और कमांडो की तैनाती की गई है। हवाई अड्डा परिसर के भीतर प्रीपेड टैक्सी काउंटर पर सेवायें बंद हैं।

आईआईटी गुवाहाटी से सिविल इंजीनियरिंग में एमटेक कर रही पूजा शर्मा और पीएचडी कर रहे हषर्ल कावले भी हवाई अड्डे पर फंसे हुए हैं। पूजा ने कहा, ‘‘ पता नहीं अमीनगांव में मैं कैंपस तक कैसे पहुंचूंगी। मैंने आईआईटी गुवाहाटी अधिकारियों से बात करने की भी कोशिश की लेकिन सड़कों पर वाहनों का प्रवेश निषेध है तो मैं यहां फंसी हुई हूं।’’

सुबह की फ्लाइट से जयपुर से यहां आई कंचन पारीख ने कहा ,‘‘ मेरे माता-पिता गुवाहाटी में रहते हैं। दो साल पहले शादी के बाद मैं जयपुर बस गई।’’ उसने कहा, ‘‘मैंने कुछ दिन पहले अपने टिकट बुक किये थे लेकिन मेरी मां ने शहर के हालात को देखते हुए मुझे टिकट रद्द कराने को कहा। मैंने टिकट रद्द नहीं कराये क्योंकि विमान सेवायें चालू थीं। मुझे नहीं पता था कि यहां हालात इतने खराब हैं। मैंने अपने पिता से संपर्क किया जो यहां दुपहिया वाहन से आये।’’

यात्रियों की परेशानी और बढ गई है क्योंकि स्थानीय टैक्सी चालक उनसे मनमाने किराये वसूल रहे हैं। ईटानगर, दीमापुर और आइजोल जाने वाले कई यात्रियों के पास इंतजार के अलावा कोई चारा नहीं है।

सैनिक उस्मान साब अपनी पत्नी और साढे तीन साल के बच्चे के साथ बेंगलुरू से आये हैं। उन्होंने कहा ,‘‘ मैं दीमापुर में रहता हूं लेकिन पता नहीं गुवाहाटी रेलवे स्टेशन कैसे पहुंचूं।’’ दीमापुर के रहने वाले और जयपुर से एक शादी में शिरकत करके आये एक चार्टर्ड अकाउंटेंट अजीत जैन ने कहा ,‘‘ मैं एक शादी के लिये जयपुर गया था लेकिन ट्रेन रद्द हो गई। मैंने गुवाहाटी की फ्लाइट की टिकट कराई। अब मैं दीमापुर जाने का जरिया तलाश रहा हूं।’’

About dhamaka