Breaking News
Home » International » ड्रैगन ने नेपाल में किया चीनी नेटवर्क का विस्तार तेज

ड्रैगन ने नेपाल में किया चीनी नेटवर्क का विस्तार तेज

Spread News with other

लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीन की तकरार के बीच चीन पडोसी देश नेपाल मे अपने नेटवर्क का विस्तार और तेज कर भारत को घेरने के लिए अपनी पैठ मजबूत कर रहा है। नेपाल के विभिन्न इलाकों मे चीन ने तमाम लोक लुभावन स्कीमें लांच कर नेपाली मूल के लोगो मे अपनी जगह बनाकर उन्हे अपनी ओर आकर्षित कर भारत के खिलाफ भड़काने की कोशिशें कर रहा है। चीनी एजेंसियों के नेपाल मे बढ़ते क़दम से भारतीय सुरक्षा एजेंसियों की बढ़ती चिंताए लाज़मी है।

हालांकि भारतीय सुरक्षा एजेंसी सशस्त्र सीमा बल उत्तर प्रदेश मे देवी पाटन मंडल के बहराइच जिले की नेपाल सीमा पर पूर्व मे तीन चीनी घुसपैठियों को पूर्व मे गिरफ्तार कर चुकी है जो गुपचुप तरीकों से भारतीय रास्तों ,धरोहरों और तौर तरीकों को अपने कैमरों मे कैद कर रहे थे। इसके बाद सुरक्षा बलों ने सीमा पर गम्भीरता पूर्वक तेजी दिखाते हुये निरन्तर चौकसी बढ़ाई हुई है। सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) के सूत्रों के अनुसार, चीन ने अपनी शक्तियों का विस्तार कर जानबूझ कर भारत को घेरने के लिये नेपाल मे भारतीय सीमाओं के इर्द गिर्द वाले नगरों मे अपनी गतिविधियां बढाना शुरू किया है। नेपाल के भीतर चीन ने पूर्व मे भारत -नेपाल सरकारों द्वारा पारगमन संधि समाप्त करने का फायदा उठाकर वहाँ चीनी भाषिक शैक्षिक संस्थान स्थापित कर उनमे केवल पहाडी मूल के लोगो को स्थान दिया।

इसके साथ नेपाल की आर्थिक कमजोरी को ढाल बनाकर फाइनेंस कम्पनियों के जरिये नेपालियो को लाभ पहुंचा रहा है। चीन ने नेपाल में स्टडी सेंटर ,चाइना इम्फार्मेशन सेंटर ,इन्वेस्टमेंट प्रमोशन सेंटर ,हिमोफ्रन्ट सोसायटी ,एक्ज्यूक्यूजिव कौंसिल समेत कई लुभावने संस्थानों को स्थापित कर नेपालियो मे अपनी लोकप्रियता बढ़ा ली है। इसके अतिरिक्त नेपाली मूल के अधिकारियों को स्कालरशिप देकर चीन मे बुलाकर भारत के विरुद्ध ब्रेनवॉश करने की कोशिशें की जा रही हैं। नेपाल को मोहरा बनाकर चीन नेपालियो को असलहो ,जालीनोट ,विदेशी सामानो ,मदिरा व अन्य पदार्थों की तस्करी ,अपराध और घुसपैठ को बढ़ावा देकर भारतीय अर्थ व्यवस्था को कमजोर करने का कुचक्र रचता रहता

About dhamaka