Breaking News
Home » Astrology » जाने हनुमान जी को क्यों चढ़ाई जाती है सिन्दूर

जाने हनुमान जी को क्यों चढ़ाई जाती है सिन्दूर

Spread News with other

धार्मिक कार्यों में सिन्दूर का बड़ा महत्व है. सिन्दूर मुख्यतः नारंगी रंग का होता है, महिलाएं इसे सौभाग्य और श्रृंगार के लिए प्रयोग करती हैं. बिना सिन्दूर के विवाह की कल्पना नहीं की जा सकती है. सिंदूर को मंगल ग्रह से भी जोड़कर देखा जाता है, इसीलिए ये मंगलकारी भी होता है.

हनुमान जी को सिन्दूर अर्पित करना और लेपन करना अत्यंत शुभ माना जाता है. हनुमान जी ने एक बार सीता माता से प्रेरित होकर सिन्दूर लगा लिया था. तबसे उन्हें सिन्दूर अर्पित करना शुभ माना जाता है.
रामायण की एक कथा के अनुसार एक बार जब हनुमानजी को भूख लगी तो वे भोजन के लिए सीताजी के पास गए. हनुमान जी ने सीता जी को अपनी मांग में सिंदूर लगाते हुए देखा. यह देखकर कर उन्होंने आश्चर्यपूर्वक उनसे पूछा कि उन्होंने अपने मस्तक पर यह सिंदूर क्यों लगाया है? सीता जी ने हनुमान के प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा कि सिंदूर लगाने से मेरे स्वामी की दीर्घायु होती है तथा वह कुशल मंगल रहते हैं. उन्होंने बताया कि ऐसा करने से उनके स्वामी उनसे प्रसन्न रहते हैं.

चुटकी भर सिंदूर लगाने से प्रभु श्री रामचंद्र जी की दीर्घायु और प्रसन्नता की बात माता जानकी के मुख से सुनकर श्री हनुमान जी ने विचार किया कि जब थोड़ा-सा सिंदूर लगाने से प्रभु को लम्बी उम्र प्राप्त होती है तो क्यों न मैं अपने सम्पूर्ण शरीर में सिंदूर पोतकर प्रभु को अजर-अमर कर दूं और उन्होंने वैसा ही किया.

राम जी ने जब हनुमान को इस रुप में देखा तो हैरान रह गए। राम जी ने हनुमान से पूरे शरीर में सिंदूर लेपन करने का कारण पूछा तो हनुमान जी ने साफ-साफ कह दिया कि इससे आप अमर हो जाएंगे और मुझे भी माता सीता की तरह आपका स्नेह मिलेगा.

आखिर क्यो होता है हनुमान जी का ...

हनुमान जी को सिन्दूर अर्पित करने के नियम क्या हैं ?

– हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए मंगलवार को सिन्दूर अर्पित करना चाहिए.

– अगर मंगल बाधा दे रहा हो या कोई विशेष संकट हो तो हनुमान जी को चमेली का तेल और सिन्दूर अर्पित करना चाहिए.

– पुरुष हनुमान जी को सिन्दूर अर्पित भी कर सकते हैं और लेपन भी.

– परन्तु महिलाओं को सिन्दूर अर्पित नहीं करना चाहिए.

अगर बार बार नौकरी छूट जाती हो या बदलनी पड़ती हो, तो सिन्दूर का कैसे करें प्रयोग ?

– किसी भी मंगलवार को हनुमान जी के चरणों का सिन्दूर लायें

– एक सफ़ेद कागज़ पर उस सिन्दूर से स्वस्तिक बनाये

– इस कागज़ को अपने पास रक्खें

– आपकी नौकरी की हर समस्या दूर होगी.

कर्ज से मुक्ति के लिए सिन्दूर का प्रयोग

– चमेली के तेल में सिन्दूर मिलाएं

– जितनी आपकी उम्र है , उतने पीपल के पत्ते ले लें

– हर पत्ते पर “राम” लिखें

– मंगलवार को हनुमान जी को अर्पित करें

– आपको कर्ज से मुक्ति मिलेगी

दाम्पत्य जीवन में खुशहाली के लिए सिन्दूर का प्रयोग

– नित्य प्रातः स्नान के बाद माँ गौरी को सिन्दूर अर्पित करें

– फिर स्वयं को सिन्दूर लगायें

– सुखद दाम्पत्य के लिए प्रार्थना करें

– ये प्रयोग केवल महिलाएं करेंगी

About dhamaka