Breaking News
Home » International » चीन की नई चाल, नेपाल को आर्थिक मदद के नाम पर देगा अरबों रुपये

चीन की नई चाल, नेपाल को आर्थिक मदद के नाम पर देगा अरबों रुपये

भारत दौरा खत्म करने के बाद नेपाल पहुंचे चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अगले दो साल में इस हिमालयी देश के लिए 56 अरब रुपये आर्थिक मदद की पेशकश की है. इसके साथ ही चीन और नेपाल के बीच विभिन्न क्षेत्रों में 20 समझौते पर हस्ताक्षर किए गए. काठमांडू पोस्ट के अनुसार, शनिवार को नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के साथ बैठक में शी जिनपिंग ने यह घोषणा की. बैठक में मौजूद एक अधिकारी ने कहा कि इस दौरान शी जिनपिंग ने घोषणा की कि अगले दो वर्षो में चीन नेपाल को 56 अरब रुपये की आर्थिक मदद देगा.

काठमांडू पोस्ट के मुताबिक, अधिकारी ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर कहा,’56 अरब रुपये की यह आर्थिक मदद वर्ष 2020-2022 के दौरान मुहैया कराई जाएगी.’

इसके बाद शनिवार रात भंडारी ने जिनपिंग के डिनर की मेजबानी की और इस दौरान चीनी राष्ट्रपति ने कहा कि चीन ट्रांस हिमालयन रेलवे के लिए विस्तृत रिपोर्ट तैयार करेगा. इससे काठमांडू और चीन आपस में जुड़ जाएंगे. केरुं ग से काठमांडू के बीच 72 किलोमीटर रेल लाइन के लिए डीपीआर प्राथमिकता आधार पर बनाई जाएगी. जिनपिंग ने कहा कि चीन दो साल में डीपीआर तैयार करेगा.

जिनपिंग ने इस दौरान कहा कि नेपाल अब स्थलसीमा से घिरा (लैंडलाक्ड) देश नहीं रहेगा, बल्कि यह स्थलसीमा से जुड़ा देश होगा. उन्होंने कहा कि चीन हमेशा नेपाल के विकास के समर्थन में है और उन्होंने नेपाल द्वारा वन-चीन नीति का समर्थन किए जाने की प्रशंसा की.

भारत से नेपाल पहुंचने के तुरंत बाद शी ने कहा कि वह नेपाल के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, पार्टी नेताओं और नेपाली लोगों द्वारा चीन के प्रति दिखाए गए गर्मजोशी और खातिरदारी से प्रभावित हुए हैं.

शी ने कहा कि यह दिखता आया है कि चीन-नेपाल मित्रता, हिमालय के समान ऊंचा और शानदार है. इसने नेपाल में गहरी जड़ें जमा ली हैं, जिसने मैत्रीपूर्ण द्विपक्षीय संबंधों को विकसित करने में भरोसे को और मजबूत किया है.

About dhamaka