Breaking News
Home » Health & Fitness » कोरोना मरीजों का खून है लाभकारी , मिल सकता है इस खतरे से छुटकारा

कोरोना मरीजों का खून है लाभकारी , मिल सकता है इस खतरे से छुटकारा

Spread News with other

कोरोना वायरस के इस दौर में इन खतरों से पूर्णत: छुटकारा पाने के लिए समस्त विश्व के वैज्ञानिक एकजुट होकर शोध के काम में जुट चुके हैं। सभी वैक्सीन की खोज में मसरूफ हैं। सभी का एकमात्र यही उद्देश्य है कि कैसे भी करके इस वायरस से निजात पाया जा सके, ताकि पूरी दुनिया को अपना वो पुराना स्वरूप मिल पाए। अब इन सबके बीच शोध में यह खुलासा हुआ है कि कोरोना मरीजों का खून बड़े काम की चीज है। यह आने वाले दिनों में उपचार के दौरान बेहद ही कारगर साबित हो सकता है। इसका उपचार के दौरान काफी तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता है।

वैज्ञानिकों के मुताबिक, कोरोना मरीजों के खून में ऐसे प्रोटीनों की पहचान की गई है, जो बीमारी की गंभीरता और त्रीवता से जुड़ी हो सकती है। अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि कोरोना वायरस सार्स-सीओवी-2 के संक्रमण के प्रति लोग अलग-अलग तरीके से प्रतिक्रिया देते हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना मरीजों में कोई लक्षण विकसित नहीं होता है। जबकि अन्य को गंभीर बीमारी भी हो सकती है और वे मर भी सकते हैं। अभी हाल ही में अनुसंधानकर्ताओं ने बायोमार्कर के लिए कोविड-19 मरीजों में प्लाज्मा कहे जाने वाले घटक का आकलन किया था, जो बीमारी की गंभीरता और उसके क्रमवार विकास लगाने का अनुमान निर्धारित कर सकता है।

इस सिलसिले में ब्रिटेन के फ्रांसिस क्रिक इंस्टीट्यूट के मार्कस रालसर के नेतृत्व में वैज्ञानिकों कोविड-19 मरीजों के खून के नमूनों के प्लाज्मा घटक में विभिन्न प्रोटीनों के स्तर का तेजी से पता लगाने के लिए अत्याधुनिक विश्लेषणात्मक प्रौद्योगिकियों का इस्तेमाल किया। बता दें कि इस शोध में 31 महिलाओं और पुरूषों के प्लाज्में का आकलन किया गया, जो गंभीरता के अलग-अलग वाले कोविड-19 के लिए इलाज कर रहा रहे थे। गौरतलब है कि अभी पूरे विश्व में कोरोना वायरस का कहर बरप रहा है। ऐसे मे लगातार शोध का सिलसिला शुरू हो चुका है, जिस दौरान तरह-तरह के तथ्य सामने आ रहे हैं।

About dhamaka