Breaking News
Home » Astrology » एकमुखी रूद्राक्ष अपने पास रखिये कभी दूर नहीं जाती है माँ लक्ष्मी

एकमुखी रूद्राक्ष अपने पास रखिये कभी दूर नहीं जाती है माँ लक्ष्मी

नई दिल्ली। एकमुखी रूद्राक्ष के बारे में कहा जाता है कि यह जहां भी जिसके भी पास होता है, उससे लक्ष्मी कभी दूर नहीं जाती है। लेकिन असली एकमुखी रूद्राक्ष मिलना अत्यंत दुर्लभ है। इसकी अत्यधिक मांग होने और मुंह मांगा पैसा मिलने के कारण आजकल बाजार में नकली एकमुखी रूद्राक्ष बहुतायत में पाए जाते हैं, लेकिन ध्यान रहे एकमुखी रूद्राक्ष बेहद दुर्लभ होता है और करोड़ों में एक पाया जाता है। एकमुखी रूद्राक्ष का आकार ओंकार की तरह होता है। यह कुछ-कुछ अर्धचंद्र के समान दिखाई देता है। इसमें साक्षात शिव बसते हैं क्योंकि कहा जाता है कि भगवान शिव के नेत्र से गिरी अश्रु की पहली बूंद ही एकमुखी रूद्राक्ष बनी। इसे धारण करने से शिव की शक्तियां प्राप्त होती हैं और व्यक्ति के पास किसी भी वस्तु का अभाव नहीं रह जाता है।

Image result for एक मुखी रुद्राक्ष

एकमुखी रूद्राक्ष के लाभ एकमुखी रूद्राक्ष धारण करने से व्यक्ति शिव के समान ज्ञानी बन जाता है। उसे शिव की समस्त शक्तियां प्राप्त हो जाती है। जो व्यक्ति अध्यात्म की राह पर चलना चाहता है, यदि वह एकमुखी रूद्राक्ष धारण करे और उस पर शिव का ध्यान करें तो वह अनंत शक्तियों का स्वामी बन जाता है। उसके संकल्प मात्र से बातें साकार होने लगती हैं। एकमुखी रूद्राक्ष के प्रभाव से मनुष्य में अपनी इंद्रियों को वश में करने की क्षमता आ जाती है। वह ब्रह्म ज्ञान की प्राप्ति की ओर अग्रसर होता है। जिस मनुष्य के पास एकमुखी रूद्राक्ष होता है उसके पास कभी धन का अभाव नहीं होता। वह अतुलनीय संपदा का स्वामी बनता है। राजनीति से जुड़े लोगों को यह देश के उच्च पद पर आसीन करने की ताकत रखता है। गुरु की आज्ञा से एकमुखी रूद्राक्ष पर त्राटक किया जाए तो तीसरा नेत्र शीघ्र जागृत हो जाता है। व्यक्ति के सामने भूत, भविष्य और वर्तमान साकार हो उठता है। तीनों काल उसे दिखाई देने लगते हैं। एकमुख रूद्राक्ष से बुरी शक्तियां, भूत प्रेत आदि दूर रहते हैं। यह रूद्राक्ष अनेक रोगों को पल भर में दूर कर देता है। हाई ब्लड प्रेशर और मानसिक रोगों में चमत्कारिक रूप से असर दिखाता है। यह रूद्राक्ष समस्त कार्यों में विजय दिलाता है। शत्रुओं से सर्वत्र रक्षा करता है।

About dhamaka