Breaking News
Home » National » आज 25 जून है बताओ, देश में आपातकाल किसने लगाया:प्रधानमंत्री मोदी

आज 25 जून है बताओ, देश में आपातकाल किसने लगाया:प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव की चर्चा के जवाब में लोकसभा में सरकार की योजनाओं पर फोकस करने के बजाय गांधी परिवार पर हमला बोला और आज 25 जून को आपातकाल की चर्ता करते हुए कांग्रेस की आलोचना की। उन्होंने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि उसने अपनी ही पार्टी के बड़े नेताओं के बजाय सिर्फ गांधी परिवार के सदस्यों का हमेशा महिमामंडन किया।

आपातकाल लगाकर कांग्रेस ने संविधान की आत्मा कुचली

मोदी ने कहा कि सोमवार को कांग्रेस नेता गिना रहे थे कि किसने क्या किया। आज 25 जून है। बताओ, देश में आपातकाल किसने लगाया, जब देश की आत्मा को कुचल दिया गया था। देश की मीडिया को दबोच दिया गया। हिन्दुस्तान को जेलखाना बना दिया गया, सिर्फ इसलिए कि किसी की सत्ता न चली जाए। उन्होंने कहा कि न्यायपालिका का अनादर कैसे होता है, वह उसका जीता-जागता उदाहरण है। आज हम 25 जून को लोकतंत्र के प्रति अपना समर्पण एक बार फिर दोहराते हैं। संविधान को कुचलने का पाप कोई भूल नहीं सकता, यह दाग कभी मिटने वाला नहीं है। इस दाग को बार-बार याद करना चाहिए ताकि फिर से कोई ऐसा पैदा न हो जो इस रास्ते पर जाए। लोकतंत्र के प्रति आस्था का महत्व समझाने के लिए इसे याद करने की जरूरत है किसी को भला-बुरा कहने के लिए नहीं।

पीएम ने भ्रष्टाचार की चर्चा करते हुए भी कांग्रेस पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि आज इमरजेंसी नहीं है। भ्रष्टाचार पर कार्रवाई होगी लेकिन कानूनी व्यवस्था के तहत कड़े कदम उठाए जाएंगे। कानून के मुताबिक जमानत पर रिहा लोग स्वतंत्र रह सकते हैं। हम आपातकाल की तरह उन्हें जेल नहीं भेजेंगे।प्रधानमंत्री ने कहा कि एक सशक्त, सुरक्षित राष्ट्र का सपना हमारे देश के अनेकों महापुरुषों ने देखा है और उसे पूरा करने के लिए अधिक गति के साथ हम सबको मिलकर आगे बढ़ना है। आज के वैश्विक वातावरण में भारत को यह अवसर खोना नहीं चाहिए। देश की आकांक्षाओं को पूरा करने में आने वाली हर चुनौती को हम पार कर सकते हैं। इस चर्चा में करीब 60 सांसदों ने हिस्सा लिया, जो पहली बार आए हैं। उन्होंने अच्छे ढंग से अपनी बात रखी और चर्चा को सार्थक बनाने का काम किया। अनुभवी लोगों ने अपनी तरह से चर्चा को आगे बढ़ाया।

About dhamaka